54 अंक वाला हो गया बाहर, 4 अंक वाले को मिल गयी रेलवे की बेहतरीन नौकरी, अब दौडायेगा रेल

आपके शेयर के बिना यह खबर आगे नही फैलेगी । कृपया नीचे दिए बटन को दबाकर फेसबुक, व्हाट्सएप एवं ट्विटर पर एक बार शेयर जरूर करें । हमारा सहयोग कीजिये

आरक्षण की वजह से देश के पढ़े लिखे एवं अच्छे अंक लाने वाले युवाओं को नौकरी नही मिल पा रही वहीँ , धनी परिवार के काम अंक लाने वाले लोग नुकरी छें लेते हैं . ऐसा ही कुछ आजकल फेसबुक पर वायरल हो रहा है . ऐसा दावा किया जा रह है की 54 अंक लाने वाला छात्र रेलवे की नौकरी नही ले पाया जबकि 4 अंक लाने वाले को आरक्षण की वजह से नौकरी मिल गयी .

इस मामले में एक व्यक्ति ने अपनी बहन की वह पोस्ट शर एकी जिसमे बताया गया है की कैसे एक कम अंक लाने वाला शक्श रेलवे असिस्टेंट लोको पायलेट की नौकरी में भर्ती हो जाता है .

loading...

आपकी जान्कर्री के लिए बता दें की रेलवे द्वारा असिस्टेंट लोको पायलट के पदों पर नौकरी के लिए आवेदन मंगाए गए थे जिसकी पहली स्टेज में CBT फॉर ALP एंड तकनीशियन की परीक्षा अगस्त माह में आयोजित की गई थी।

loading...

परीक्षा का रिजल्ट बीते 2 नवंबर को प्रकाशित किया गया था जिसके नतीजे एवं कट ऑफ को देखकर सभी दंग रह गये .

इसे जरूर पढ़ें -   कश्मीर में इस्लामिक जिहादियों द्वारा तोड़े गये 50 हजार मंदिरों को फिर से बनाएगी मोदी सरकार : बड़ी खबर

सामान्य / अनारक्षित वर्ग से आने वाली डॉली कुमार अग्रवाल के परिणाम – जिनका रजिस्ट्रेशन नंबर 390167226 है . अनारक्षित वर्ग से आने वाली डॉली के रॉ मार्क्स( 75 अंक) में कुल 39.33333 आये है वही दावा किया जा रहा है कि आरक्षित वर्ग से आने वाले प्रवेश के कुल अंक महज 3 अंको पर सिमट गए है।

इसी तरह प्रो रेटेड मार्क(100 अंक) में डॉली ने 53.88 अंक हासिल किये है जिसमे प्रवेश के कुल अंक 4.33 पर ठहर गए है। आगे देखने पर हमने पाया की नॉर्मलाइज़्ड मार्क्स में डॉली अग्रवाल को कुल 57.93 अंक प्राप्त हुए है जिसपर प्रवेश का आंकड़ा 16.68 से आगे ना बढ़ सका।

इसे जरूर पढ़ें -   वैज्ञानिकों ने सबूत के साथ साबित किया सरस्वती नदी का अस्तित्व : वैदिक ऋचाओं पर रिसर्च की मुहर, जिहादियों की नींद उडी

रेलवे की तरफ से डॉली के अंक प्रवेश से कोसो दूर आगे होने के बावजूद उनको अगले स्टेज के एग्जाम से बाहर कर दिया है वही प्रवेश को अगले स्टेज के लिए चयनित कर लिया है जिसका अगला एग्जाम आगामी दिसंबर माह में होंगे।

अपनी बहन के परिणाम को फेसबुक पर शेयर करते हुए उनके भाई ने कहा की “यह मेरा देश है… मुझे भारत से नफरत है”। जब हमने उनके भाई से फलाना दिखाना के रिपोर्टर ने संपर्क साधा तो उन्होंने बताया की “आरक्षण से देश का बंटा धार हो रहा है, जब इतने कम अंको वालो के हाथो में भारतीय रेलवे होगी तो दुर्घटना होना लाजिमी है”।

इसे जरूर पढ़ें -   सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्ष के वकील ने फाड़ डाले भगवान राम मंदिर के नक़्शे एवं अन्य कागजात : श्री राम जन्म भूमि

मामला अपने आप में गंभीर था इसलिए जब हमने इसकी पड़ताल करने की ठानी तो हमें कुछ और ही हाथ लगा। दर्ज किये गए रोल नंबर की छान बीन करने पर हमें कुछ और ही नजर आया।

हमारी टीम ने पाया की प्रवेश के अंक 4 नहीं 31 थे पर हां उन्हें आरक्षण का फायदा मिला था और उन्हें अगले स्टेज के लिए क्वालीफाई दिखाया गया है। परन्तु सोशल मीडिया पर किया जा रहा दावा कोसो दूर नहीं दिख रहा था।

लेकिन RRB कलकत्ता ने इस बात से पल्ला झाड लिया है और कहा है की इस तरह की मार्कशीट फर्जी है . इसे सोशल मीडिया पर शर इन्ही किया जाना चाहिए


आपके शेयर के बिना यह खबर आगे नही फैलेगी । कृपया नीचे दिए बटन को दबाकर फेसबुक, व्हाट्सएप एवं ट्विटर पर एक बार शेयर जरूर करें । हमारा सहयोग कीजिये
loading...
Ramesh Jatav

About Ramesh Jatav

मैं पत्रकार टीम का एक सदस्य हूँ | आप मेरे बारे में About us पेज पर पढ़ सकते हैं | मुझसे संपर्क करने के लिए ईमेल करें - ramesh@pkmkb.news I am a journalist at PKMKB.news . You can read about me on 'About us' page. You can contact me at email - ramesh@pkmkb.news

View all posts by Ramesh Jatav →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *